अदार पूनावाला ने ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पर लगाया 34 अरब रुपए का दांव, दुनिया के आधे बच्चों को टीका लगा चुकी है भारतीय कंपनी सेरम इंस्टीट्यूट

अदार पूनावाला ने ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पर लगाया 34 अरब रुपए का दांव, दुनिया के आधे बच्चों को टीका लगा चुकी है भारतीय कंपनी सेरम इंस्टीट्यूट





जैफ्री गैटलमैन. कोरोनावायरस वैक्सीन के निर्माण को लेकर बड़ा दांव लग चुका है। भारत की कंपनी और दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन निर्माता पुणे की सेरम इंस्टीट्यूट ऐसी वैक्सीन के लाखों डोज बनाने जा रही है, जो अभी भी ट्रायल्स में है और यह भी संभव है कि दवा काम भी न करे। अगर यह वैक्सीन काम कर गई तो कंपनी ने सीईओ अदार पूनावाला दुनिया के सबसे प्रभावशाली व्यक्ति बन जाएंगे।

ऑक्सफोर्ड के साथ कर रही है सेरम इंस्टीट्यूट
उनकी कंपनी सेरम इंस्टीट्यूट ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर वैक्सीन बना रही है। कंपनी ने अप्रैल में ही क्लीनिकल ट्रायल्स खत्म होने से पहले ही बड़े स्तर पर वैक्सीन बनाने की घोषणा कर दी थी। मई की शुरुआत में ही यहां एक सील्ड स्टील बॉक्स में ऑक्सफोर्ड से दुनिया की सबसे भरोसेमंद वैक्सीन का सेल्युलर मटेरियल आया था।

हर मिनट तैयार होंगे 500 डोज
पूनावाला की कंपनी हर मिनट वैक्सीन के 500 डोज बनाने के लिए तैयार है। इस दौरान उन्हें दुनियाभर के स्वास्थ्य मंत्रियों, प्रधान मंत्रियों और दूसरे ऐसे प्रमुखों के फोन आ रहे हैं, जिनसे उन्होंने सालों से बात नहीं की। पूनावाला के अनुसार, सभी उनसे वैक्सीन के फर्स्ट बैच के लिए रिक्वेस्ट कर रहे थे। उन्होंने कहा- "मैंने उन्हें समझाया कि देखो मैं आपको इस तरह से यह वैक्सीन नहीं दे सकता।"

अदार पूनावाला, सेरम के चीफ एग्जीक्यूटिव

दुनिया के आधे बच्चों को लग चुका है सेरम के प्रोडक्ट का वैक्सीन
कोरोनावायरस ने दुनियाभर में उथल-पुथल मचा रखी है और सारी उम्मीदें वैक्सीन पर ही टिकी हैं। ऐसे में सेरम इंस्टीट्यूट खुद को बहुत ही कॉम्पीटिटिव और धुंधले प्रयासों के बीच पाता है। वैक्सीन को जल्द से जल्द बाहर लाने के लिए डेवलपर्स का कहना है कि उन्हें सेरम के बड़े वैक्सीन असेंबली लाइन की जरूरत है। यह हर साल दूसरी वैक्सीन के 150 करोड़ वैक्सीन की भरपाई करता है, जो अधिकांश गरीब देशों तक जाती हैं। यह आंकड़ा किसी भी दूसरी कंपनी से ज्यादा है। दुनिया के आधे बच्चों को सेरम के प्रोडक्ट्स का टीका लगाया है। इसका पैमाना ही इसकी खासियत है।

भारत और बाकी दुनिया में बांटेंगे 50-50 वैक्सीन
फिलहाल यह साफ नहीं है कि सेरम की वैक्सीन को भारत में रखा जाएगा और इसके निर्माण में खर्च कौन करेगा। भारत में कोरोनावायरस की स्थिति भयावह हो रही है और करीब 130 करोड़ लोगों को चलते यहां वैक्सीन की जरूरत सबसे ज्यादा है। इसके अलावा भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने ड्रग्स के निर्यात पर रोक लगा दी है।

अदार पूनावाला का कहना है कि वे बनाई जा रही लाखों वैक्सीन को भारत और बाकी दुनिया में 50-50 बांटेंगे। उनका खास ध्यान गरीब देशों पर होगा और इस बात से पीएम मोदी को भी कोई आपत्ति नहीं है। हालांकि उन्होंने कहा "देखो अगर वे लोग चाहें तो अभी भी किसी प्रकार की इमरजेंसी लगा सकते हैं।"

कंप्यूटर से चलने वाला कैमरा असेंबली लाइन में मौजूद हर वायल में क्रैक या दूसरी परेशानी को बारीकी से देखता है।

जब तक ट्रायल खत्म होंगे, वैक्सीन तैयार हो जाएगी
ऑक्सफोर्ड की यह वैक्सीन भरोसेमंद उम्मीदवारों में से एक है। दुनियाभर के अलग-अलग कारखानों में इसका प्रभाव साबित होने से पहले ही बड़े स्तर पर निर्माण शुरू हो जाएगा। वैक्सीन को तैयार होने में वक्त लगता है। लाइव कल्चर्स को बायोरिएक्टर्स के अंदर बढ़ने में हफ्तों लगते हैं। उदाहरण के लिए हर वायल को ठीक तरह से साफ करना, भरना, सील और पैक करना जरूरी है।

दो प्रक्रियाओं को एकसाथ करने का कारण है कि जब वैक्सीन ट्रायल्स में है और जब तक ट्रायल्स खत्म होंगे, वैक्सीन तैयार हो जाएगी। अमेरिकी और यूरोपीय सरकारें इस प्रयास के लिए करोड़ों डॉलर खर्च करने का वादा कर चुकी हैं। इसके साथ ही जॉनसन एंड जॉनसन, फाइजर, सैनोफी और एस्ट्राजैनेका जैसे बड़े फार्म्स्यूटिकल नामों के साथ उत्पादन के लिए डील कर चुकी हैं।

सेरम के कैंपस में अदार पूनावाला ने अपने पुराने हवाई जहाज को ऑफिस सूट में बदल दिया है।

दूसरी कंपनियों से अलग है सेरम इंस्टीट्यूट
एस्ट्राजैनेका ऑक्सफोर्ड की पार्टनर है और यूरोप, अमेरिका और दूसरे बाजारों के लिए वैक्सीन निर्माण के लिए 100 करोड़ डॉलर से ज्यादा सरकारी कॉन्ट्रैक्ट साइन कर चुकी है। हालांकि, इसने सेरम इंस्टीट्यूट को भी उत्पादन करने की इजाजत दे दी है। पूनावाला के अनुसार, फर्क यह है कि उनकी कंपनी खुद ही प्रोडक्शन का खर्च उठा रही है।

इसके अलावा एक खास फर्क के कारण भी सेरम इंस्टीट्यूट दूसरी कंपनियों से अलग है। दूसरे सफल भारतीय कारोबारियों की तरह यह पारिवारिक बिजनेस है। यह कंपनी तेजी से फैसले लेती है और बड़े जोखिम उठाती है। इस फैसले से कंपनी को करोड़ों डॉलर का खर्च उठाना पड़ेगा।

कंपनी का इतिहास
पूनावाला कहते हैं कि वे "70 से 80 प्रतिशत" सुनिश्चित थे कि ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन काम करेगी, लेकिन उन्होंने कहा "मैं उम्मीद करता हूं कि हम ज्यादा गहराई में नहीं जाएंगे।"

शेयर होल्डर्स को हटा दिया जाए तो सेरम इंस्टीट्यूट केवल दो लोग चलाते हैं, अदार पूनावाला और उनके पिता सायरस पूनावाला। सायरस एक हॉर्स ब्रीडर थे जो अरबपति बने। करीब 50 साल पहले सेरम इंस्टीट्यूट परिवार के घोड़ों के फार्म में एक शेड के रूप में शुरू हुई थी। बाद में सायरस को यह अहसास हुआ कि वैक्सीन लैब के लिए घोड़ों को दान करने के बजाए वे खुद भी सीरम को प्रोसेस कर सकते है और वैक्सीन बना सकते हैं।

2006 में मुंबई में पूनावाला स्पॉन्सर्ड रेस में सायरस पूनावाला (दाएं मध्य में), सायरस ने हॉर्स ब्रीडर के तौर पर शुरुआत की थी और बाद में अरबपति बने।

टिटनस से की थी शुरुआत
उन्होंने 1967 में टिटनस से शुरुआत की थी। इसके बाद सांप के काटने के एंटीडोट्स। फिर टीबी, हेपिटाइटिस, पोलियो और फ्लू के शॉट्स बनाए। पूनावाला ने पुणे के एक शहर में मौजूद घोड़ों के फार्म से बड़ा वैक्सीन साम्राज्य तैयार किया।

भारत के सस्ते लेबर और एडवांस टेक्नोलॉजी को मिलाकर सेरम इंस्टीट्यूट ने गरीब देशों के लिए सस्ती वैक्सीन सप्लाई करने यूनिसेफ, पैन अमेरिकन हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के कॉन्ट्रैक्ट्स हासिल कर लिए। अब पूनावाला भारत के अमीर परिवारों में से एक हैं और उनकी संपत्ति 500 करोड़ डॉलर से ज्यादा है।

"हमें ऐसा महसूस होता है कि हम हमारे देश और दुनिया को समाधान दे रहे हैं"
फैसिलिटी के अंदर कोरोनावायरस वैक्सीन कैंडिडेट और सफेद हुड पहने साइंटिस्ट बड़े स्टेनलैस स्टील वैट्स देख रहे हैं, जहां वैक्सीन के सेल्युलर मटेरियल को बनाया जा रहा है। साथ ही वे बायोरिएक्टर्स के वायटल संकेत को मॉनिटर कर रहे हैं। सेरम के एक साइंटिस्ट संतोष नरवड़े कहते हैं "यह सेल्स बेहद नाजुक हैं। हमें ऑक्सीजन स्तर और स्पीड मिक्सिंग से इनका ध्यान रखना होता है नहीं तो यह सेल्स टूट जाएंगे।" उन्होंने कहा "हम सभी को ऐसा महसूस हो रहा है जैसे हम हमारे देश और हमारी दुनिया को समाधान दे रहे हैं।"

जुलाई की शुरुआत में सेरम इंस्टीट्यूट में हाई स्पीड वैक्सीन असेंबली में से एक चलाते हुए टेक्नीशियन्स।

कमर्शियल उपयोग के लिए नवंबर तक 30 करोड़ डोज का भंडार बनाने का विचार
ऑक्सफोर्ड की तैयार की हुई वैक्सीन ने दिखाया कि यह ठीक हो रहे कोविड 19 के मरीजों की तरह ही एंटीबॉडीज को एक्टिव करती है। सेरम पहले भी रिसर्च और डेवलपमेंट के लिए इस वैक्सीन के लाखों डोज तैयार कर चुका है। संभावित तौर पर नवंबर तक जब ट्रायल्स पूरे होंगे, तब तक सेरम कमर्शियल उपयोग के लिए 30 करोड़ डोज का भंडार तैयार करने की तैयारी में है।

वैक्सीन असफल हो गई तो क्या?
अगर यह वैक्सीन असफल होती हैं तो भी सेरम इंस्टीट्यूट मददगार होगा। सेरम ने डेवलपमेंट के शुरुआती दौर में चार अन्य वैक्सीनों को निर्माण के लिए दूसरे वैक्सीन डिजाइनर के साथ हाथ मिलाया है। हालांकि अभी इनका उत्पादन नहीं किया जा रहा है। अगर यह सभी असफल होते हैं तो पूनावाला का कहना है कि वे जल्द ही अपनी असेंबली लाइन्स को दूसरी कारगर वैक्सीन के उत्पादन में लगा देंगे। उन्होंने कहा "बहुत की कम लोग इस कीमत, इस पैमाने और इतनी तेजी से उत्पादन कर सकते हैं।"

ऑक्सफोर्ड वैक्सीन बनाने के लिए पूनावाला खर्च कर रहे हैं 45 करोड़ डॉलर
एस्ट्राजेनेका डील के तहत सेरम भारत और मिडिल और लो इनकम देशों को लिए ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के 100 करोड़ डोज बना सकता है। इसके अलावा इतनी कीमत वसूली जा सकती है जो इसके प्रोडक्शन से ज्यादा नहीं है। महामारी के बाद पूनावाला को उम्मीद है कि वो वैक्सीन को प्रॉफिट पर बेच पाएंगे। इस दौरान उनकी सबसे बड़ी चिंता है नगदी। उन्होंने अनुमान लगाया है कि बड़े स्तर पर ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के उत्पादन के लिए वे करीब 45 करोड़ डॉलर खर्च कर रहे हैं।

इस दौरान उनके कई खर्चों की पूर्ति कभी नहीं हो सकती। जैसे वैक्सीन को रखने के लिए वायल्स और प्रोसेस में इस्तेमाल होने वाला कैमिकल। पूनावाला का कहना है कि पहली बार वे प्राइवेट इक्विटी फंड की मदद लेने के बारे में सोच रहे हैं।

प्रोडक्शन प्रोसेस की आखिरी प्रक्रिया: सील्ड वैक्सीन को कार्डबोर्ड के बॉक्सेज में रखना।

इसके उलट देखा जाए तो अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की वॉर्प स्पीड प्रोजेक्ट और ऐसी ही यूरोप की योजना के तहत तैयार हुई डील हैं। अपने लोगों के लिए लाखों डोज सुरक्षित करने के लिए अमीर देश पहले ही ड्रग कंपनियों ऐसी वैक्सीन के मास प्रोडक्शन से जोखिम हटाने के लिए पैसे दे चुके हैं या चुकाने का वादा कर चुके हैं, जो शायद काम ही न करें और आखिर बाहर फेंक दी जाएं।

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में हेल्थ पॉलिसी प्रोफेसर डॉक्टर ओलिवियर वाउटर्स कहते हैं कि यह वैक्सीन राष्ट्रवाद को बताता है। उन्होंने कहा "अमीर देश लाइन में आगे जा रहे हैं और गरीब देश पीछे छूटने के जोखिम में हैं।" एनालिस्ट्स ने कहा है कि सेरम को बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन या शायद भारत सरकार से आर्थिक मदद मिलने की संभावना है। हालांकि दोनों ने इस पर प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया है। कम से कम ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के मामले में सेरम का काम केवल प्रोडक्शन है।

सेरम कंपनी में जर्मन कंपनी के टेक्नीशियन्स नए हाई स्पीड वैक्सीन असेंबली को इंस्टॉल करते हुए।

अदार के सीईओ बनने के बाद बढ़ा है कंपनी का रेवेन्यू
जब से अदार पूनावाला ने सेरम के सीईओ का पद संभाला है, तब से कंपनी नए बाजारों में फैली है। इससे कंपनी का रेवेन्यू 80 करोड़ डॉलर से ज्यादा हो गया है। अदार कहते हैं कि उनके परिवार को जीवन बचाने की वैक्सीन बनाने के बजाए फैंसी कार या जेट में घूमने के लिए जाना जाता है।

उन्होंने कहा "भारत में कई लोगों को यह नहीं पता कि मैं क्या करता हूं। उन्हें लगता है कि अरे तुम घोड़ों के साथ कुछ करते हो और जरूर पैसे बना रहे हो।" उन्हें लग रहा है कि यह सब बदलने वाला है।

सेरम इंस्टीट्यूट पर नया कंस्ट्रक्शन हो रहा है। कंपनी ज्यादा वैक्सीन बनाने के लिए बड़े पैमाने पर निवेश कर रही है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें


पुणे स्थित सेरम इंस्टीट्यूट में बायोरिएक्टर पर काम करते वैज्ञानिक। इसके अंदर कोरोनावायरस वैक्सीन का भरोसेमंद उम्मीदवार है।



Source link

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

राष्ट्र निर्माण में सहयोग के लिए करें. (9887769112)
हमारी स्वतंत्र पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करे



Leave a Comment