बीएसएनएल के लेखाधिकारी की अग्रिम जमानत की अर्जी मंजूर

दहेज प्रताड़ना के मामले में लगाई थी अर्जी

जयपुर (जितेन्द्र शर्मा)। राजधानी की अपर सेशन न्यायाधीश, क्रम-6 जयपुर महानगर अदालत ने बीएसएनएल विभाग के महाप्रबंधक दूरसंचार जिला (जीएमटीडी) बांसवाड़ा के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता की अर्जी मंजूर कर उसे अग्रिम जमानत दे दी है।

अदालत ने अभियुक्त सत्यनारायण गुप्ता की ओर से दायर अग्रिम जमानत की अर्जी गत मंगलवार को स्वीकार करते हुए आदेश दिया है कि पुलिस थाना महिला (पश्चिम) जयपुर थानाधिकारी/अनुसंधान अधिकारी द्वारा अभियुक्त को गिरफ्तार करने की सूरत में अभियुक्त की ओर से 50 हजार रुपए का स्वयं का बंधपत्र व 25-25 हजार रुपए की दो जमानतें थानाधिकारी/अनुसंधान अधिकारी के संतोषप्रद शर्तों के साथ पेश कर तस्दीक करवाने की सूरत में अभियुक्त को अग्रिम जमानत पर रिहा कर दिया जाए।

सुनवाई में बहस के दौरान अभियुक्त के वकील ने अदालत को बताया कि अभियुक्त ने कभी भी परिवादिया से न तो दहेज की मांग की और ना ही उसे कभी शारीरिक व मानसिक रूप से दहेज के लिए प्रताडि़त किया। उधर, परिवादिया के वकील ने बताया कि अभियुक्त सत्यनारायण गुप्ता ने शादी के बाद से ही दहेज की मांग को लेकर परिवादिया को तंग व परेशान किया है। अभियुक्त ने परिवादिया से 5 लाख रुपए व एक मारूति कार पीहर से लाने की मांग की है। अभियुक्त ने पीडि़ता के साथ मारपीट एवं शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताडि़त कर उसे अप्रेल 2010 में घर से बाहर निकाल दिया। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने यह आदेश किया है।

आखिर क्या हैं अदालत की शर्तें:-

अदालत ने अभियुक्त बीएसएनएल के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता को गवाहों को प्रभावित नहीं करने, जांच अधिकारी के बुलाने पर थाने में हाजिर होने और देश नहीं छोडऩे की निम्न शर्तों पर अग्रिम जमानत दी है :-
1. अभियुक्त अभियोजन गवाहन को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से प्रभावित नहीं करेगा।
2. अभियुक्त अनुसंधान अधिकारी द्वारा अनुसंधान के लिए तलब करने पर उसके समक्ष उपस्थित होगा एवं अनुसंधान में सहयोग करेगा।
3. अभियुक्त न्यायालय की पूर्वानुमति के बिना भारत देश नहीं छोड़ेगा।

ज्ञात रहे कि आरोपी सत्यनारायण गुप्ता राजधानी के एमआई रोड़ स्थित भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) विभाग के प्रधान महाप्रबंधक दूरसंचार जिला (पीजीएमटीडी) जयपुर कार्यालय में लेखाधिकारी के पद पर कार्यरत था व करीब पांच माह पहले उसका तबादला महा प्रबंधक दूरसंचार जिला (जीएमटीडी) बांसवाड़ा कार्यालय में हो गया।

क्या है मामला:

चित्रकूट, वैशाली नगर निवासी अनु गुप्ता ने आरोपी पति एवं बांसवाड़ा में बीएसएनएल विभाग में महाप्रबंधक दूरसंचार जिला (जीएमटीडी) कार्यालय के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता (एस.एन. गुप्ता) व ससुरालजनों के खिलाफ आए दिन उससे दहेज में 5 लाख रुपए व मारूति कार की मांग करने के लिए प्रताडि़त करने पर दहेज प्रताडऩा का मामला दर्ज कराया था।

rajasthan, jaipur, chitrakoot, vaishali nagar, anu gupta, jitendra sharma, satya narayan gupta, s.n. gupta, satya gupta, bsnl, pgmtd jaipur, gmtd banswara, agrim jamanat 498a, 406ipc, mahila west thana jaipur, adj 6 jaipur,

कोर्ट ने दिए थे दोबारा जांच के आदेश:

मामले में जांच के बाद आरोपी के बीएसएनएल विभाग में अधिकारी होने के दबाव के चलते पुलिस अनुसंधान अधिकारी ने मिलीभगत कर थाने में झूंठा राजीनामा प्रार्थना पत्र व शपथ पत्र झांसे में रखकर लिखवा लिया और उसे भय दिखाकर प्रकरण में एफ.आर. लगा दी थी। बाद में पता चलने पर पीड़िता ने इसकी पुलिस कमिश्नर और आला अधिकारियों से शिकायत भी की थी।

उसके बाद पीड़िता अनु गुप्ता की प्रोटेस्ट पिटीशन पर शहर की अतिरिक्त सिविल न्यायाधीश एवं महानगर मजिस्ट्रेट, क्रम-20 महानगर ने राजीनामे के तथ्य से इंकारी को देखते हुए पुलिस को दोबारा जांच करने के आदेश दिए थे। मामले में जांच पूरी होने के बाद पुलिस ने गुप्ता के खिलाफ दहेज प्रताडऩा का आरोप सिद्ध होने पर उसकी गिरफ्तारी की कार्रवाई शुरू कर दी थी। इस पर गिरफ्तारी से बचने के लिए उसने कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी दायर कर की थी। उधर, आरोपी पति उसे आज भी अपने नाम आवंटित मकान में रहने में बाधा उत्पन्न करता है। अदालत में भी उसे डराता-धमकाता है। इस पर पीड़िता ने घरेलू हिंसा का प्रकरण भी आरोपी पति के खिलाफ पेश कर रखा है।

इस खबर से सबंधित खबर देखने के लिए यहां क्लिक करें

 

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

राष्ट्र निर्माण में सहयोग के लिए करें. (9887769112)
हमारी स्वतंत्र पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करे



Leave a Comment