बीएसएनएल ने लेखाधिकारी को थमाई विभागीय चार्जशीट

इंवेस्टिगेशन मीडिया ने “ऑपरेशन हज़रत” अभियान में किया था खुलासा

जयपुर (जितेन्द्र शर्मा)। राजधानी में बीएसएनएल विभाग के लेखाधिकारी के अपनी महिला मित्र को अवैध रूप से घर में रखने और उसके नाम से फर्म खोलकर बीएसएनएल से ठेका दिलाने के मामले में बीएसएनएल प्रशासन ने अपने लेखाधिकारी एस.एन. गुप्ता को चार्जशीट थमा दी है। 

बीएसएनएल की विजिलेंस टीम ने हरकत में आकर बीएसएनएल के पीजीएमटीडी  कार्यालय के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता (एस.एन. गुप्ता) के खिलाफ लंबी जांच पूरी होने के बाद विभागीय चार्जशीट थमा दी। विभाग ने यह चार्जशीट बीएसएनएल आचरण, अनुशासन एवं अपील नियम 2006 के अंतर्गत दी है।   


”ऑपरेशन हजरत” अभियान से मचा था हड़कम्प : 


उल्लेखनीय है कि इंवेस्टिगेशन मीडिया ने गत वर्ष 5 फरवरी को अपने अभियान ”ऑपरेशन हजरत”  में ”बीएसएनएल के लेखाधिकारी की करतूत” शीर्षक नाम से खबर प्रसारित की थी। जिसमें लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता द्वारा महिला मित्र को अवैध रूप से घर में रखने और उसके नाम से फर्म खोलकर बीएसएनएल से ठेका दिलाने की करतूत का खुलासा किया गया था। 


खबर प्रसारित होने के बाद बीएसएनएल प्रशासन में हड़कम्प मच गया था और तुरंत प्रभाव से हरकत में आकर विभाग की विजिलेंस शाखा ने लेखाधिकारी एस.एन. गुप्ता के खिलाफ जांच की कार्रवाई शुरू कर दी थी।  

Rajasthan, Jaipur, BSNL, PGMTD Jaipur, Account Officer S.N. Gupta, Satya Narayan Gupta, CDA Rules-2006, Charge Sheet, Operation Hazrat, Investigation Media

खबर को माना शिकायत: 

बीएसएनएल विभाग के अधिकारियों ने इंवेस्टिगेशन मीडिया की खबर को शिकायत मानते हुए बीएसएनएल विजिलेंस में राजस्थान टेलीकॉम सर्किल के  उप  महाप्रबन्धक (डीजीएम) मनीष सक्सेना के हवाले से सहायक महाप्रबन्धक (एजीएम) जे.पी. शर्मा ने इंवेस्टिगेशन मीडिया को ईमेल कर लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता के फर्जीवाड़ों को लेकर विभागीय जांच में सहयोग के लिए जरूरी कागजात मांगे थे। उसके बाद हरकत में आए बीएसएनएल विजीलेंस प्रशासन को इंवेस्टिगेशन मीडिया ने इस मामले से जुड़े सभी कागजात का पुलिंदा विभाग को सौंप दिया था। 


उसके बाद विभाग ने जांच के बाद लेखाधिकारी एस.एन. गुप्ता के खिलाफ बीएसएनएल आचरण, अनुशासन एवं अपील नियम 2006 के अंतर्गत एक चार्जशीट थमा कर राजधानी से लेकर दिल्ली में बैठे बीएसएनएल विभाग के आला अफसरों को भी मामले की जानकारी दी। 


क्या कहता है बीएसएनएल का कण्डक्ट रूल्स:



बीएसएनएल के कंडक्ट रूल्स (आचरण, अनुशासन एवं अपील नियम) 2006 के मुताबिक बीएसएनएल में कार्यरत कोई भी पदाधिकारी अपने किसी परिवार के सदस्य अथवा रिश्तेदार या परिचित व्यक्ति को विभाग से किसी भी प्रकार से कोई व्यापारिक संबंध अथवा अन्य किसी प्रकार से अनुचित लाभ दिलाने के लिए अपने पद का दुरूपयोग नहीं कर सकता।


इस खबर से सबंधित खबर देखने के लिए यहां क्लिक करें

 

 इस खबर से सबंधित खबर देखने के लिए यहां क्लिक करें

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

 

 

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

राष्ट्र निर्माण में सहयोग के लिए करें. (9887769112)
हमारी स्वतंत्र पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करे



Leave a Comment