महिला व्याख्याता ने दी महिला को जान से मारने की धमकी

– आरोपी महिला के खिलाफ जमानती वारंट जारी
– बांसवाड़ा के श्री गोविन्द गुरू सरकारी कॉलेज में कार्यरत है आरोपी महिला

जयपुर/बांसवाड़ा (जितेन्द्र शर्मा) राजधानी की एक अदालत ने एक महिला को धमकाने और जान से मारने की धमकी देने के मामले में एक महिला व्याख्याता को जमानती वारंट से तलब किया है। शहर की कार्यपालक मजिस्ट्रेट एवं सहायक पुलिस आयुक्त (मुख्यालय) जिला-जयपुर पश्चिम अदालत ने बांसवाड़ा के श्री गोविंद गुरू सरकारी कॉलेज में व्याख्याता के पद पर कार्यरत व्याख्याता वन्दना बरमेचा के खिलाफ यह आदेश दिया है। कोर्ट ने आरोपी महिला को पुलिस से जमानत करवाकर अदालत में आवश्यक रूप से हाजिर होने के आदेश दिए हैं। मामले की सुनवाई 5 अप्रेल को होगी।

डीजीपी दफ्तर ने करवाई जांच :

चित्रकूट, वैशाली नगर निवासी महिला अनु गुप्ता ने अपने पति बीएसएनएल के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता के पीडि़ता व उसकी छोटी बहन को धमकाने एवं जान से मारने की धमकी देने पर पुलिस महानिदेशक को शिकायत दर्ज कराई थी। इस पर पुलिस महानिदेशक ने मामले की जांच वैशाली नगर थाना पुलिस को सौंपी। पुलिस जांच में सामने आया है कि पीडि़ता व उसके पति के बीच काफी लम्बे समय से विवाद चल रहा है। पीडि़ता ने पति सत्यनारायण गुप्ता के खिलाफ महिला थाना (पश्चिम) पुलिस में दहेज प्रताडऩा का मामला दर्ज करवा रखा है, जो विचाराधीन है। प्रकरण में आरोपी सत्यनारायण गुप्ता ने अग्रिम जमानत ले रखी है। आरोपी सत्यनारायण गुप्ता परिवादिया अनु गुप्ता को केस वापस लेने व जान से मारने की धमकी देता है।

इस पर पुलिस ने आरोपी सत्यनारायण गुप्ता व उसके साथ रहने वाली बांसवाड़ा में डूंगरपुर रोड़ स्थित श्री गोविन्द गुरू राजकीय महाविद्यालय की व्याख्याता वन्दना बरमेचा से पीडि़ता अनु गुप्ता को केस वापस लेने व जान से मारने की धमकियां देने व पीडि़ता को जान-माल का खतरा होने पर आरोपियों को अदालत में कोर्ट से पाबन्द करवाने की अनुशंषा कर दी। इस पर कोर्ट के नोटिस की तामील होने के बाद भी आरोपी महिला अदालत में हाजिर नहीं हुई। इस पर कोर्ट ने वन्दना बरमेचा को गिरफ्तारी वारंट से तलब किया है।

क्या दी धमकी :

पुलिस को दिए बयानों में परिवादिया अनु गुप्ता ने बताया कि आरोपी पति सत्यनारायण गुप्ता व उसके साथ रहने वाली बांसवाड़ा में डूंगरपुर रोड़ स्थित श्री गोविन्द गुरू राजकीय महाविद्यालय की व्याख्याता वन्दना बरमेचा ने 6 अक्टूबर 2015 को उसे जान से मारने का प्रयास किया और धमकी दी एवं गाड़ी से टक्कर मारने का प्रयास किया। इस दौरान आरोपी वन्दना बरमेचा ने उसे धमकी देते हुए कहा कि ”हमारा पीछा छोड़ दो, तुम्हें मिलने वाला कुछ नहीं है और जान से भी चली जाओगी और हमारा कुछ कर भी नहीं पाओगी।”

order, Court order

क्या है मामला : 

गौरतलब है कि चित्रकूट, वैशाली नगर निवासी पीडि़ता अनु गुप्ता ने महिला थाना (पश्चिम) पुलिस में आरोपी पति बीएसएनएल के लेखाधिकारी सत्यनारायण गुप्ता के खिलाफ दहेज प्रताड़ता का मामला दर्ज करवाया था। मामले में आरोपी गुप्ता के खिलाफ अपराध सिद्ध होने पर उसने शहर की एडीजे कोर्ट से अग्रिम जमानत करवा ली थी। जमानत की शर्त थी कि आरोपी पीडि़ता व मुकदमें से संबंधित गवाहों को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से प्रभावित नहीं करेगा। वहीं, पुलिस अनुसंधान में सहयोग करेगा। उधर, आरोपी गुप्ता ने अग्रिम जमानत मिलते ही पीडि़ता को डराना-धकाना शुरू कर दिया। वहीं, पुलिस ने मामले में कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी है।

बहरहाल, प्रदेश में महिला मुख्यमंत्री से लेकर पुलिस-प्रशासन में कई अहम पदों पर तैनात महिलाओं समेत मोदी सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए किए जा रहे प्रयासों के बीच एक महिला व्याख्याता इस कदर सशक्त हो सकती है, इसका अंदाजा इस मामले में देखा जा सकता है। ऐसे में एक महिला द्वारा दूसरी महिला को ही धमकाने एवं जान से मारने की धमकी देने के मामले ने सरकार के महिला सशक्तिकरण के दावों की पोल खोल कर रख दी है। साथ ही सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए की जा रही कवायद पर सवालिया निशान भी लगा दिया है।

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

सभी अपडेट के लिए हमें Facebook और Twitter पर फ़ॉलो करें

राष्ट्र निर्माण में सहयोग के लिए करें. (9887769112)
हमारी स्वतंत्र पत्रकारिता को सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए आर्थिक मदद करे



Leave a Comment