सरकारी डॉक्टर कर रहे हैं लाखों रुपए का काला कारोबार

एक ओर नौकरी की मोटी तनख्वाह तो वहीं दूसरी ओर निजी प्रैक्टिस करके लाखों रुपए महीना कमा रहे हैं सरकारी डॉक्टर। यानि कि आम के आम और गुठलियों के ऊंचे दाम। देश में सरकारी डॉक्टरों द्वारा अस्पतालों में निर्धारित समय पर न देखकर मरीजों के साथ अन्याय किया जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर अस्पतालों के पास अपने निजी चिकित्सा के अड्डे चला रहे हैं। ये सरकारी डॉक्टर यहां तक कि शाम को घर पर भी उनके घर के आगे सैकड़ों मरीजों की लाइनें देखी जा सकती हैं। जब…

Read More

भारतीय अर्थव्यवस्था में एक गहरा विरोधाभास!

कुछ समय से भारतीय अर्थव्यवस्था में एक गहरा विरोधाभास देखा जा रहा है। नवीनतम सरकारी आँकड़ों के अनुसार भारत की विकास दर 6.6% है। पिछले डेढ़ दशकों में अपने ही प्रदर्शन की तुलना में यह कमज़ोर है, हालाँकि वैश्विक परिदृश्य में तुलनात्मक दृष्टि से यह संतोषजनक है, लेकिन कई अन्य महत्त्वपूर्ण संसूचकों पर नज़र डालें तो अर्थव्यवस्था की स्थिति निराशाजनक लगती है। हाल ही में जारी हुई द्विमासिक मौद्रिक नीति समिति की रिपोर्ट से पता चलता है कि विकास दर में कमी और निवेशक धारणा पर दबाव की वज़ह से…

Read More

गलत के खिलाफ महिलाओं को उठानी चाहिए आवाज

घरेलू हिंसा हमारे समाज में प्राचीन काल से ही विद्यमान है। प्रतिदिन देश निरंतर प्रगति कर रहा है लेकिन महिलाओं के साथ होने वाली घरेलू हिंसा में कोई कमी नहीं आई है। आज भी महिलाओं की स्थिति बहुत ही दयनीय है। बचपन से ही महिलाओं के उपर उनके परिवारजन और रिश्तेदारों द्वारा अत्याचार शुरू कर दिए जाते हैं। जब वह पैदा होती है तो उन्हें ताने दिए जाते हैं और प्रताड़ित किया जाता है। घरेलू हिंसा के अंतर्गत महिला से मार पीट, उससे जबरदस्ती और किसी भी प्रकार का दबाव…

Read More

बुराई का नाश और भलाई को पुनर्जीवित करने के लिए जन्म हुआ था श्री कृष्ण का

भारत में हिन्दू धर्म के लोग अपनी-अपनी रीति-रिवाज से जन्माष्टमी को मनाते हैं। इस दिन मंदिरों में सुंदर झांकियां भी सजती है जिन्हें देखने के लिए भीड़ उमड़ती हैं यही नहीं लोग अपने बालगोपालों को भगवान श्री कृष्ण के वेष में सजाते हैं और जिससे मानो पूरा माहौल कृष्णामयी हो जाता है। इस वेष में कभी वे यशोदा मैया के लाल होते हैं, तो कभी ब्रज के नटखट कान्हा दिखते हैं। जन्माष्टमी का त्योहार हिन्दू कैलेंडर के मुताबिक रक्षाबंधन के बाद भाद्रपद महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को…

Read More

खानदान की विरासत को संभालने के लिए राजनीति में आए थे “राजीव गांधी”

राजीव गाँधी जैसे युवा नेता की दूरदर्शिता के फलस्वरूप ही देश कम्प्यूटर युग में प्रवेश कर सका है। जब कम्प्यूटर के क्षेत्र में अध्ययन एवं अनुसन्धान के प्रयासों को उन्होंने बल देना शुरू किया था, तो लोगों ने इससे बेरोजगारी बढ़ने की बात कहकर उनकी तीव्र आलोचना की थी, किन्तु आज देश की प्रगति में कम्प्यूटर की उपयोगिता एवं भूमिका से यह स्वाभाविक रूप से अन्दाजा लगाया जा सकता है कि राजीव गाँधी अपने समय से कितना आगे चलते हुए पूरी सूझ-बूझ से निर्णय लिया करते थे। भारत आज सूचना…

Read More

आखिर क्या है आर्टिकल 370?

कई दिनों की अनिश्चितता के बाद जम्मू-कश्मीर को लेकर मामला साफ हो चुका है। केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 को वहां से हटा दिया है। इसके अलावा जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बंटवारे का प्रस्ताव रखा गया है। जम्मू-कश्मीर एक केंद्र शासित प्रदेश होगा, जहां विधानसभा होगी। लद्दाख केंद्र के अधीन केंद्र शासित प्रदेश रहेगा। भारत में विलय के बाद शेख अब्दुल्ला ने जम्मू-कश्मीर की सत्ता संभाली। उन्होंने तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक संबंध को लेकर बातचीत की।…

Read More

प्राइवेट कैब ऑपरेटरों से कब तक मिल पायेगी सुरक्षा ?

गत दिनों राजस्थान की राजधानी में ओला कैब के ड्राइवर द्वारा युवती से पिस्तौल की नोक पर छेड़छाड़ की गई तथा उसका शील भंग करने की कोशिश की गई। हालांकि, युवती के हौसले ने उस ड्राइवर और उसके साथी को उनके घृणित इरादों में कामयाब नहीं होने दिया और तत्काल पुलिस को सूचना देकर उन्हें गिरफ्तार करवाने में जिस हौसले का परिचय दिया वह काबिले तारीफ है। यह कोई पहली घटना नहीं है ऐसी घटनाएं राजस्थान के साथ साथ देशभर में तेजी से बढ़ती जा रही है। ऐप बेस्ड कैब…

Read More

माननीय आया राम-गया राम कब तक उड़ाते रहेंगे लोकतंत्र की धज्जियां!

पिछले कई वर्षों से देश के कई प्रदेशों में निर्वाचित विधायक एवं सांसद गण अपने अपने राजनीतिक स्वार्थ एवं निजी स्वार्थों के चलते मतदाताओं के साथ धोखा करते आ रहे हैं। केवल मतदाता ही नहीं यह अपनी मूल पार्टी जिन्होंने उन्हें राजनीतिक केरियर दिया उसके भी साथ धोखा करते जा रहे हैं जिस के उदाहरण गोवा तथा हाल ही में कर्नाटक में देखने को मिले हैं। भारत में दल बदल कानून 51 वा संविधान संशोधन 1985 के द्वारा लाया गया था संविधान के अनुसार यह स्पष्ट किया गया कि किन…

Read More

राजस्थान में सहकारी औषधि दुकानें बनीं भ्रष्टाचार के अड्डे

राजस्थान में चिकित्सा एवं जन स्वास्थ्य को लेकर जहां राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एवं चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा राइट टू हेल्थ बिल लाने के लिए प्रयासरत हैं और प्रदेश की जनता के स्वास्थ्य को लेकर रोज नई जनकल्याणकारी योजनाओं की पहल कर रहे हैं, जैसे दिल विदाउट बिल, नि:शुल्क दवा योजनाओं की संख्या में वृद्धि तथा नि:शुल्क जांचों में इजाफा तो वहीं दूसरी ओर, विभाग में कार्यरत अधिकारी एवं चिकित्सकों के साथ-साथ दवा विक्रेताओं का संगठित माफिया भ्रष्टाचार के चलते पूरे तंत्र को असफल करने…

Read More

मॉब लिंचिंग के आगे सरकारें बेबस!

क्या यूं ही मरते रहेंगे लोग ? देशभर में जिस तरह से मॉब लिंचिंग के मामले तेजी से सामने आते जा रहे हैं उससे लगता है कि देश में कानून नाम की कोई चीज ही अब बाकी नहीं बची है । वर्ष 2014 से वर्ष 2018 तक गौरक्षा के नाम पर 87 मामलों में शिकार होने वाले लोगों में 50% मुसलमान, 20% की धर्म जाति मालूम नहीं, 11% दलित, 9% हिंदू और 1% सिख हैं। वर्ष 2018 तक 4 सालों में 134 बार मॉब लिंचिंग के मामले प्रकाश में आए।…

Read More